StatCounter

Saturday, June 24, 2017

राम रोटी और इंसाफ

​अगर किसी बात की चर्चा देश के चाय-पान दूकानो में हो रही है, तो इसका मतलब है कि अब वो बात देश में राजनीतिक बहस का एक मुद्दा है। बात राष्ट्रपति चुनाव की चल रही थी और जब मैं दुकान में आया तो एक छोटा सा ग्रुप वहां पहले से मौजूद था। एक बोल रहा था...

लायक आदमी तो इसके एक हीं थे .... 

मेरे कान खड़े हुए। कहीं कलाम साहब कब्र से बाहर तो नहीं आ गए। लेकिन नहीं, उनके कैंडिडेट थे, आडवाणी जी।।

मैंने पुछा क्यों भाई... !!

बोला वही बात ...

उनकी किस्मत वो प्रधानंत्री नहीं बन पाये, राष्ट्रपति तो बनाना था। 

मैंने बोला ... 

उनकी किस्मत खराब थी, तो क्या, ऐसे ख़राब किस्मत वाले को देश का राष्ट्रपति बना देना उचित होता।

जब मैंने देखा कि मेरे इस घटिया जोक पे कोई नहीं हँस रहा है तो मैंने बोला...

लेकिन वो आडवाणी जी हीं थे ना, जो रथ ले के निकले थे, जिससे मस्ज़िद टूटा था।

इस पर दुकान वाला छूटते हीं बोला ...

तो क्या गलत हुआ था, मस्ज़िद भी तो वहां मंदिर तोड़ कर हीं बनाये थे।

रांची थोडा बीजेपी टाइप टाउन है, खुलेआम।

मैंने फिर बोला ... 

लेकिन वो तो आज से दस हज़ार बीस हजार साल पूरानी बात है, अब उसका क्या...

वो पहले बोला..  इससे क्या ... और एक साथ बहुत सारे लोग बोलने लगे। फिर वही बोला...

सुनिए वहां तोड़ के स्टेडियम बना दीजिये ...

मैंने बोला क्यों कुछ तोडा जाए या जाता!!! वो तो बहुत पुरानी बात है जब टूटी थी।

तो एक बोला ...  ठीक है आज हमलोग वही कर रहे हैं ...

मैंने पूछा...

क्यों! क्यों वही काम करे। ये वहीं रहता तो लोगों को याद दिलाता रहता कि ऐसा हुआ था !कहीं न कहीं, कुछ न कुछ, कमी तो रही होगी न हमलोगों में, नहीं तो कैसे टूट गया। अपने आप तो नहीं टूट गया था ना। इसपर वो आदमी बोला और बड़ा अच्छा बोला,

बोला...

अपना अपना सोच हैं  ।।

इधर मैं सोंच रहा था बोलचाल की भाषा में (मतलब colloquial में ) सेकुलर और सिक्युलर दो टर्म है। आखिर उनमे क्या अंतर है।

मेरे ख़याल से एक अंतर होगा ये मानना कि मंदिर तोड़कर कर मस्ज़िद बनाये गए थे, पर वो बहुत पहले हुए थे और उसका मतलब ये नहीं है कि अब उन सब मस्ज़िद या किसी भी मस्ज़िद को अब तोड के बदला लें। अब नहीं कर सकते हैं। नहीं करना चाहिए !! क्यों !!

क्योंकि राज्य आपको ऐसा करने नहीं देगा।  क्योंकि हमारा राज्य सेकुलर है।

यह होगा सेकुलर।

सिक्युलर होगा ये कहना कि ऐसा कभी नहीं हुआ था कि मंदिर तोडा गया था। राम जी सिर्फ एक काल्पनिक कहानी है अमर चित्र कथा के, जैसे सुपरमैन है मार्वल के। मतलब ऐसा नहीं है कि ये बाते गलत हैं या सच है, इस तरह से, इस तरह की बातों को मुद्दे में लाना एक बीमारी है।

आडवानी जी मेरे पहले राजनितिक हीरो थे। और बहुत दिनों तक रहें थे। मैंने हमेशा बीजेपी को आडवाणी जी की पार्टी समझी। खुल के बोलू तो मेरे हीरो बीजेपी में आडवाणी जी थे, न की अटल जी। हां यह भी जरूर बोलूंगा कि मैं वोट देता नहीं हूँ, लेकिन अगर देता, तो मनमोहन सिंह जी को देता, न क़ि उनको देता। वो चुनाव, आपको याद होगा, उन्होंने मनमोहन सिंह जी को देश का सबसे कमजोर प्रधानमंत्री  कह कर लड़ा था।

हालाँकि आडवाणी जी वास्तव में बहुत सक्षम उम्मीदवार हैं। बल्कि बहुत हद तक, देश के राष्ट्रपति में जो सारे गुण चाहिए जैसे राजनीती के क्षेत्र में वरिष्ठता वगैरह, सब हैं उनमे। मगर फिर एक और बात भी है।

आप देखे तो यह हिन्दू सांप्रदयिकता की राजनीति जो अभी हमारे देश में चल पड़ी है, उसमे, इनका बहुत बड़ा हाथ है। आधुनिक युग में इनको एक प्रकार से इसका जनक माना जा सकता है।

हो सकता है उन्होंने रथयात्रा और कार सेवा इस भावना के साथ ना निकाला हो, इस पर तो कोर्ट देख हीं रही है, लेकिन परिणाम क्या था उसका। मस्ज़िद टूटना। जिसका शायद अफ़सोश भी जताया हैं उन्होंने। मस्ज़िद टूटना (यहाँ कुछ लोग शहीद होना बोल के भी पढ़ते हैं) कोई बड़ी बात नहीं, मगर इसका जो जलवा उन्होंने क्रिएट किया था, वो थोडा ख़तरनाक है।

दूसरी एक और बात है जो मैंने बहुत जगह पढी है। वो मोदी जी को हटाने वाली बात। वहां भी कहीं पढ़ा है या सुना है कि आडवाणी जी ने कहा था मोदी जी के इस्तीफे के समय में कि इस्तीफा माँगा तो पार्टी में बवाल खड़ा हो जाएगा।

कभी कभी मैं सोंचता हूँ कि अगर उस समय वो राजधर्म वाले लोगों के तरफ खड़े हो जाते तो क्या सही में इतना बड़ा बवाल खड़ा हो जाता, कि पार्टी पॉवर में भी संभाल नहीं पाती। मैं कंधार पे अब और नहीं जाऊँगा।

एक और बात है उनकी वो जिन्ना वाली। सच बात है कि पढ़ा लिखा हरेक इंसान यह जानता है कि जिन्ना पर्सनल लाइफ में बिलकुल मज़हबी नहीं थे, वो पोर्क खाते थे, उनके नज़र में religion or caste or creed… has nothing to do with the business of the State and by the way इसके ठीक विपरीत थे नेहरू जी। उन्हें योगासन भी आता था और श्रद्धा के साथ साधुओं से भी मिलते थे, पर राजनीति उन्होंने कभी भी धर्म की नहीं की । भारत के secularism सेकुलरिज्म को बहुत लोग nehruvism नेहरुविज्म भी बोल सकते हैं।

मगर जिन्ना को सेकुलर बोलना सिक्युलर है। ठीक है वो पोर्क भी खाते थे, सावरकर साहेब भी बीफ खाते थे। और बहुत सारे और भी हिन्दू राष्ट्र वाले खाते हैं। मगर क्या कोई उन्हें सेकुलर बोलेगा। उन्हें तो सिक्युलर हीं बोलना होगा।

क्या उनके नाम पर आम सहमति बन जाती। अगर बन जाती तो विपक्ष ने क्यों नहीं खुद हीं पहले उनका नाम रखा। उनके नाम पर आम सहमति नहीं बनती।

लेकिन इसके बावज़ूद आडवाणी जी अभी भी मेरे लिए बहुत बड़े हीरो हैं। और सच्चे हीरो हैं। करन थापर जी उनको पसंद करते हैं क्योंकि उन्हें अच्छा लगता है कि वो सॉरी बोल सकते हैं। मगर उनको मैं कुछ और बोलने के लिए भी याद रखूँगा और वो थी नयी अवाज़....  राम रोटी और इंसाफ !! ये होता है राजनीतिक नारा... सबका साथ सबका विकास तो साबुन का प्रचार है।

Wednesday, April 5, 2017

Geeta second chapter verse 46

यावानर्थ उदपाने सर्वतः संप्लुतोदके।
तावान्सर्वेषु वेदेषु ब्राह्मणस्य विजानतः।।2.46।।

यह गीता के दुसरे अध्याय का ४६ वा श्लोक है. इसके बाद जो श्लोक आता है उस श्लोक को सभी लोग या जो भी गीता को थोड़ा बहुत भी जानते है, उन सबों ने सुना है, वो है...... 

कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन।
मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोऽस्त्वकर्मणि।।2.47।।

इस श्लोक के भी बहुत मतलब हो सकते हैं मगर मैं अपने यावानर्थ उदपाने सर्वतः संप्लुतोदके पर आता हूँ...

इसके मतलब में, मतलब इसके शाब्दिक मतलब में तो ज्यादा विवाद नहीं है, इसका शाब्दिक मतलब होगा... यावानर्थ मतलब जैसा अर्थ, उदपाने मतलब कुआं, एक छोटा जलाशय, का होगा जब सर्वतः संप्लुतोदके, मतलब जब सर्वतः मतलब हर जगह सम्प्लुतोदके मतलब पानी से भरा हुआ literally flooded with water, है.

तो शब्दशः मेरे ख्याल से इसका मतलब हुआ जैसा अर्थ, अब अर्थ के वैसे बहुत मतलब हो सकते हैं, एक अर्थ हुआ मतलब तो जैसा मतलब एक छोटे से कुएं का होता है उस जगह में जहाँ चारो तरफ पानी हीं पानी हो, अब यहीं पे मैं छोड़ देता हूँ और अगले वाले लाइन के भी शब्दशः मतलब पे आता हूँ,

मैंने कहा था कि पहले वाले के शब्दसः मीनिंग में थोड़ा एग्रीमेंट हैं, आप अगर पहले वाले पे हीं अटक गए हैं तो और बात है नहीं तो आगे बढे.

तावान्  यावान सहसंबंधी शब्द हैं जैसे जितना उतना, तो वैसे हीं उतना ही जब सर्वेषु मतलब सबो में, वेदेषु मतलब  वेदों में, मतलब, उसी तरह सारे के सारे वेदों में, तावान्सर्वेषु वेदेषु, मैंने बोला था कि दूसरे वाले का शब्दशः मुश्किल है,  ब्राह्मणस्य मतलब ब्राह्मणं का, के की, याद है अगर आपने कभी संस्कृत पढ़ा होगा तो बालकस्य, बालकः बालको बालकः, तो ब्राह्मणस्य मतलब हुआ ब्राह्मण का के की को, विजानतः मतलब जानना, विज्ञानं शब्द यही से आया है, विज्ञ का मतलब होता है जानने वाला, तो अब इस पुरे श्लोक का क्या मतलब हुआ. कुछ पॉपुलर ट्रांसलेशन पहले मैं रखूँगा।

पहला source https://www.gitasupersite.iitk.ac.in/srimad?htrskd=1&httyn=1&htshg=1&scsh=1&choose=1&&language=dv&field_chapter_value=2&field_nsutra_value=46

Hindi Translation By Swami Ramsukhdas
सब तरफसे परिपूर्ण महान् जलाशयके प्राप्त होनेपर छोटे जलाशयमें मनुष्यका जितना प्रयोजन रहता है अर्थात् कुछ भी प्रयोजन नहीं रहता वेदों और शास्त्रोंको तत्त्वसे जाननेवाले ब्रह्मज्ञानीका सम्पूर्ण वेदोंमें उतना ही प्रयोजन रहता है अर्थात् कुछ भी प्रयोजन नहीं रहता।
Hindi Translation By Swami Tejomayananda
सब ओर से परिपूर्ण जलराशि के होने पर मनुष्य का छोटे जलाशय में जितना प्रयोजन रहता है? आत्मज्ञानी ब्राह्मण का सभी वेदों में उतना ही प्रयोजन रहता है।।
यहाँ इसी साइट में शकराचार्य जी ने भी जो इस श्लोक पे लिखा था वो भी उपलब्ध हैपूरा का पूरा एक दम बॉडी पे देना ठीक नहीं है मैं फुटनोट में दे देता हूँ [1] 
तो शंकराचार्य जी सन्यास मार्ग वाले थे यह झलक तो उनके मतलब में साफ़ दिखता है. उनके अर्थ के मूल को लेते हुए मैं बोलता हूँ कि पूरे श्लोक का मतलब हुआ जैसे एक छोटे से जलासय का उपयोग है, तब भी जब हर जगह पानी हीं पानी हों, या कहें तो जैसे एक छोटा से कुएं का अर्थ है तब भी जब  सर्वतः संप्लुतोदके मतलब तब भी जब चारों तरफ पानी हीं पानी हो, हम जानते हैं वातावरण या हमारे शरीर का एक बड़ा हिस्सा या शायद 80 % वाटर हीं हैं, मतलब जैसे एक छोटे से जलासय से हीं हमारा मतलब सिद्ध हो जाता है, भले हीं सब जगह पानी हीं पानी हो, या हम अपने पानी के सारे जरूरत को एक छोटे जलासय से प्राप्त कर सकते हैं. उसी तरह सारे के सारे वेदों का ज्ञान ब्राह्मण को जान कर भी पा सकते हैं. 
शकराचार्य जी ने पहले वाले का मतलब मेरे मतलब से उल्टा लगाया है, हालाँकि शब्दशः में हम दोनों एक हैं, उनका कहना है और बाकी ऊपर वालों ने भी पहले श्लोक का मतलब करीब करीब वैसा हीं लगाया है, कि जो प्रयोजन एक छोटे से जलासय का रह जाता है जब चारो तरफ जल हीं जल से भरे जलासय हो, मेरा कहना है बहुत प्रयोजन रह जाता है, उनलोगों का कहना है कोई प्रयोजन नहीं रह जाता है, मैं कहता हूँ बहुत प्रयोजन रह जाता है, यावानर्थ, जो अर्थ, मैं कहता हूँ बहुत अर्थ, बल्कि मैं इसे ऐसे पढता हूँ, जैसे सारे बड़े जलसायों के मतलब एक छोटे से कुँए से निकल जाता है, वास्तवकिता यही है, भले हीं चारो तरफ जल हीं जल हो, हमारा मतलब एक छोटे से कुँए से निकल जाता है. 
अब अगर अगली लाइन पर आएं तो दो शब्द  विवादस्पद हैं, पहला ब्राह्मण और दूसरा वेद या आप जिसको भी पहले रखें. दुसरे लाइन का एक मतलब जो मैं बोलता हूँ हुआ कि उसी तरह से सारे के सारे वेदों का अर्थ एक ब्राह्मण को जानने से मिल जाता है. वेद का मतलब होता है ज्ञान, विद्वान शब्द वहीँ से आया है, सर्वेषु वेदेषु का मतलब हुआ सभी ज्ञान को एक ब्राह्मण में जाना जा सकता है. शंकराचार्य ने कहाः है परम ब्रह्म को जानने से हो जाता है, मैं कहता हूँ किसी भी ब्राह्मण को जानने से हो जाता है. 
ब्राह्मण कौन है? महाभारत में भीष्म ने ब्राह्मणों के लिए कहा है कि इन्द्रियों का दमन और स्वाध्याय ब्राह्मणों के दो प्रमुख धर्म है, उनको उनके सारे कर्मों का फल सिर्फ स्वाध्याय से मिल जाता है. उसमे दया की भी प्रधानता होती है, वो यज्ञ करवाता है, करता नहीं है,  मतलब आज कल के हिसाब से प्रोफेसर, मतलब वैसे लोग जो नॉलेज क्रिएट करते हों, या जो नॉलेज स्टोर करते हों, शास्त्रों में ब्राह्मण को ब्रह्मा के माथे, सिर से आया हुआ माना गया है, हमारे शरीर में जो सिर का रोल है, अगर पूरे समाज को एक शरीर माना जाए तो उस समाज में सिर या दिमाग का जो काम करेगा, वो ब्राह्मण है. 
इस हिसाब से देखें तो सही बात है, किसी भी क्षेत्र में उसके ब्राह्मण को जान लेने से उस क्षेत्र के सारे ज्ञान विज्ञान का काम लिया जा सकता है, जैसे चारों तरफ जल हीं जल हो फिर भी एक छोटे से जलासय से उसका काम निकल सकता है.  
मेरा वाला मतलब ज्यादा सही है. ऐसा मुझे लगता है. गीता एक गीत है, और गाने में पूर्ण मतलब नहीं लिखा जाता है, हाँ आपको मतलब की एक तस्वीर उभर कर आती है. मैंने एक तस्वीर उभारने की कोशिश की है.  
ब्राह्मण शब्द का अब हिंदुस्तान में एक अलग हीं मतलब हो गया. जाति। ब्राह्मण अब एक एक जाति बन गयी है, जाति  संस्कृत के जन्म शब्द से आता है,  उससे जोड़ दिया गया है, और बस जोड़ दिया गया है, ब्राह्मण एक वर्ण भी होता है उसको तो लोग भूल हीं गए हैं, वर्ण वरन से आता है, चरित्र characteristics या कहे तो रंग भी होता है. अब जन्म का इसपे कितना प्रभाव होता है यह तो अलग बात है.
जैसे वेद शब्द को लीजिये. इसका शाब्दिक मतलब है ज्ञान, वैसे महाभारत में कहा जाता है वेदों का सांगोपांग अध्ययन किया, मैंने सुना है वेदों के सात अंग और उपंग है, मतलब साफ़ है कि वेदों का ज्ञान एक सिस्टेमेटिक स्टडी थी. इस हिसाब से सर्वेषु वेदेषु का क्या मतलब हुआ. चारो तरफ ज्ञान का एक सिस्टेमेटिक तंत्र है, उसको एक ब्राह्मण के अंदर देखा जा सकता है. तभी वेदों में ब्राह्मण का इतना महत्व बताया गया है. 
   
         

















[1] सम्पूर्ण वेदोक्त कर्मोंके जो अनन्त फल हैं उन फलोंको यदि कोई चाहता हो तो वह उन कर्मोंका अनुष्ठान ईश्वरके लिये क्यों करे इसपर कहते हैं सुन

जैसे जगत्में कूप तालाब आदि अनेक छोटेछोटे जलाशयोंमें जितना स्नानपान आदि प्रयोजन सिद्ध होता है वह सब प्रयोजन सब ओरसे परिपूर्ण महान् जलाशयमें उतने ही परिमाणमें ( अनायास ) सिद्ध हो जाता है। अर्थात् उसमें उनका अन्तर्भाव है।
इसी तरह सम्पूर्ण वेदोंमें यानी वेदोक्त कर्मोंसे जो प्रयोजन सिद्ध होता है अर्थात् जो कुछ उन कर्मोंका फल मिलता है वह समस्त प्रयोजन परमार्थतत्त्वको जाननेवाले ब्राह्मणका यानी संन्यासीका जो सब ओरसे परिपूर्ण महान् जलाशयस्थानीय विज्ञान आनन्दरूप फल है उसमें उतने ही परिमाणमें ( अनायास ) सिद्ध हो जाता है। अर्थात् उसमें उसका अन्तर्भाव है।
श्रुतिमें भी कहा है कि जिसको वह ( रैक्व ) जानता है उस ( परब्रह्म ) को जो भी कोई जानता है वह उन सबके फलको पा जाता है कि जो कुछ प्रजा अच्छा कार्य करती है। आगे गीतामें भी कहेंगे कि सम्पूर्ण कर्म ज्ञानमें समाप्त हो जाते हैं। इत्यादि।
सुतरां यद्यपि कूप तालाब आदि छोटे जलाशयोंकी भाँति कर्म अल्प फल देनेवाले हैं तो भी ज्ञाननिष्ठाका अधिकार मिलनेसे पहलेपहले कर्माधिकारीको कर्म करना चाहिये।